Deepak Jois

एसडीओ कार्यालय के उर्दू अनुवादक को कलाम हैदरी अवार्ड

April 21, 2015

जागरण — जागरण संवाददाता, जमशेदपुर : एसडीओ धालभूम कार्यालय के उर्दू अनुवादक मो. नियाज अख्तर को बिहार उर्दू अकादमी ने कार्यक्रम महफिल-ए-एजाज में कलाम हैदरी अवार्ड से नवाजा है। उन्हें यह अवार्ड उनकी 26 कहानियों के संग्रह बूढ़े बरगद का अंत के लिए दिया गया है। उन्हें पटना में 16 अप्रैल को बिहार के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री व बिहार उर्दू अकादमी के कार्यकारी अध्यक्ष नौशाद आलम ने 7500 रुपये और सर्टिफिकेट पेश किया। उर्दू अनुवादक मो. नियाज अख्तर को इसके पहले गया में बज्म-ए-कलमकार संस्था की तरफ से भी 2013 में अवार्ड मिल चुका है। मो. नियाज कहानियां लिखते हैं। उनकी कई कहानियां अखबारों में भी छपी हैं। उनके अलावा जमशेदपुर से साहित्यकार अफसर काजमी और डा. अख्तर आजाद को भी बिहार उर्दू अकादमी ने सम्मानित किया है। इस कार्यक्रम में बिहार की उर्दू अकादमी ने देश भर के 134 साहित्यकारों को सम्मानित किया है जिसमें से 51 बिहार और तीन जमशेदपुर के थे। साहित्यकारों को पुरस्कार देने की तीन श्रेणियां थीं। पहले श्रेणी के साहित्यकार को 10 हजार, दूसरी श्रेणी के साहित्यकार को साढ़े सात हजार और तीसरी श्रेणी के साहित्यकार को पांच हजार रुपये दिए गए हैं। — Citation Jagaran, “एसडीओ कार्यालय के उर्दू अनुवादक को कलाम हैदरी ۔۔۔

‘मंटो को मुंबई में किसी ने परेशान नहीं किया’

April 12, 2015

आकार पटेल — हाल ही में पाकिस्तानी शायर और लेखक अली अक़बर नातिक़ ने बीबीसी हिंदी डॉटकॉम पर उर्दू के मशहूर अफ़सानानिगार सआदत हसन मंटो को लेकर अपने विचार व्यक्त किए थे. इस लेख में पाकिस्तान में मंटो की लोकप्रियता को लेकर बातें की गई हैं और इस पूर्वाग्रह पर सवाल खड़ा किया गया था कि पाकिस्तान जाकर मंटो के दिन मुफ़लिसी में ۔۔۔

चीन के लोगों को है उर्दू से प्यार

April 5, 2015

ज़ी न्यूस हिंदी — नई दिल्ली : उम्र के 75 वसंत देख चुके चीनी कवि झांग शिग्जुआन के लिए उर्दू में शेर लिखना एक जुनून है और पिछले पांच दशकों में उर्दू के प्रति उनका यह प्रेम कई गुना बढ़ गया है। झांग ने यहां शुक्रवार को 17वें सालाना जश्न-ए-बहार मुशायरे में कुछ शेर सुनाए, तो वहां मौजूद लोग मंत्रमुग्ध हो ۔۔۔

मध्य प्रदेश के इकबाल को मौलाना आजाद पुरस्कार

March 31, 2015

नई दुनिया — लखनऊ, ब्यूरो। उर्दू की खिदमत, भाषा की तरक्की में जुटे साहित्यकारों, शायरों, अदीबों को दिए जाने वाले उर्दू अकादमी-2014 के पुरस्कारों का ऐलान कर दिया गया है। अकादमी का सबसे प्रतिष्ठित मौलाना अबुल कलाम आजाद अवार्ड मध्य प्रदेश के भोपाल निवासी उपन्यासकार इकबाल मजीद को दिया जाएगा। “दैनिक जागरण समूह” के उर्दू अखबार “इंकलाब” के संपादक शकील शम्शी को पत्रकारिता पुरस्कार के लिए चुना गया ۔۔۔

जश्न-ए-बहार 3 को

March 30, 2015

नवभारत टाइम्स — ख्वाब, किस्सा, ख्याल, अफसाना, हाय उर्दू ज़बान की दिल्ली… दिल्ली में मुशायरों का दौर जारी है। 3 अप्रैल को जश्न-ए-बहार में इस बार पाकिस्तान, सऊदी अरब से लेकर चीन, अमेरिका के शायर सुनने को मिलेंगे। 17वें मुशायरे ‘जश्न-ए-बहार’ में उर्दू के मुरीदों के बीच 17 शायर-शायरात होंगे। इनमें पाकिस्तान से किश्वर नाहिद, अमजद इस्लाम अमजद, अंबरीन हसीब शामिल हैं, वहीं चीन के शायर जांग शिजुआंग के कलामों को भी सुनने को तैयार रहें। भारत से जावेद अख्तर, मुनव्वर राना, मंसूर उस्मानी, पॉपुलर मेरठी, खुशबीर सिंह शाद समेत 9 शायर इस मशहूर मुशायरे में शिरकत ۔۔۔

उर्दू में भी लिखी गई थी श्रीराम कथा

March 28, 2015

पत्रिका — कोरबा. कोरबा में स्थित बिलासपुर संभाग के एकमात्र पुरातत्व संग्रहालय में रखी अनोखी रामकथा इन दिनों चर्चा का विषय बनीं हुई है। उर्दू में लिखी यह रामकथा न सिर्फ देश में सदियों से विद्यमान सांप्रदायिक सौहार्द को रेखांकित कर रही ۔۔۔

उर्दू जिसे कहते हैं, जुबां है मेरी

March 28, 2015

जागरण — बुलंदशहर : नुमाइश पंडाल में आयोजित ऑल इंडिया महफिल-ए-मुशायरे का उद्घाटन मिजोरम के राज्यपाल अजीज कुरैशी ने किया। इस दौरान शायरों ने अपने कलाम से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। अल सुबह तक मुशायरा चलता रहा। नामचीन शायरों के न आने से कुछ मायूसी तो रही ही, लेकिन जब एक बार कार्यक्रम शुरू हुआ तो मायूसी के सारे बादल छंट गए और हर ओर बस वाह, क्या बात की बारिश ۔۔۔

उर्दू में अनुवादित ‘हिन्दुस्तान मेरी नजर में’ का विमोचन

March 27, 2015

जागरण — रामपुर। रजा लाइब्रेरी द्वारा अरबी से उर्दू में अनुवादित पुस्तक ‘हिन्दुस्तान मेरी नजर में’ पुस्तक का विमोचन नई दिल्ली में किया गया। एम्बेसी ऑफ रिपब्लिक ऑफ इजिप्ट के कल्चरल काउन्सलर डॉ. एएम अब्देल रहमान ने पुस्तक का विमोचन ۔۔۔

उर्दू में अनुवादित ‘हिन्दुस्तान मेरी नजर में’ का विमोचन

March 27, 2015

जागरण — रामपुर। रजा लाइब्रेरी द्वारा अरबी से उर्दू में अनुवादित पुस्तक ‘हिन्दुस्तान मेरी नजर में’ पुस्तक का विमोचन नई दिल्ली में किया गया। एम्बेसी ऑफ रिपब्लिक ऑफ इजिप्ट के कल्चरल काउन्सलर डॉ. एएम अब्देल रहमान ने पुस्तक का विमोचन ۔۔۔

उर्दू से टूटेगा एएमयू में पढ़ने का सपना

March 23, 2015

जागरण — जागरण संवाददाता, अलीगढ़ : एएमयू की नौवीं की प्रवेश परीक्षा में उर्दू के सवालों से अभ्यर्थियों को जूझना पड़ा। यही उर्दू एएमयू में पढ़ने के सपने को भी तोड़ेगी। रविवार को 22 केंद्रों पर हुई परीक्षा में 11624 अभ्यर्थी शामिल हुए। इनमें 977 गैरहाजिर ۔۔۔